Wednesday, 22 May 2013

प्रहार ये प्रचण्ड है


खण्ड खण्ड में विभक्त है मनुष्यता अपार
आसुरी प्रवृत्ति का प्रहार ये प्रचण्ड है
आ रहा समक्ष भी न देव शक्ति का प्रभाव
दुष्ट को प्रताड़ना विधान या न दण्ड है
सन्त हीन है समाज, शक्तिवान में प्रभूत --
आज देख लो सखे बढ़ा हुआ घमण्ड है
भारती अपंग हो गई सुनो परन्तु मित्र
घोष हो रहा कि राष्ट्र नित्य ये अखण्ड है
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

2 comments:

  1. bharat ki is puny bhumi men yahi virodhabash hai bahutachi kavita dhanywad vajpayeeji inpanktiyon ke sath ab na koi krishan dhikhata is samar sangram men dharashtron ka satta sihasan sudrin hota ja raha hai

    ReplyDelete