Wednesday, 17 April 2013

बता दो


सुनो भाग्य के हो विधाता तुम्ही किन्तु माया रही है भ्रमों को बढ़ा
यही वो नटी है नहीं जो नटी है सदा दण्ड क्यों मानवों पे मढ़ा
तुम्ही को भजा है सुनो ब्रह्म हो तो यही पाठ भी नित्य ही है पढ़ा
अरे दीन क्यों दीन है ये बता दो कहो भाग्य ऐसा गया क्यों गढ़ा
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
लखनऊ

No comments:

Post a Comment